Shyamala Sathsanga Mandali

From the blog

Argala Stotram

அர்க³லாஸ்தோத்ரம் ..

 

ௐ அஸ்ய ஶ்ரீஅர்க³லாஸ்தோத்ரமந்த்ரஸ்ய விஷ்ணுர்ருʼஷி꞉,

அனுஷ்டுப் ச²ந்த³꞉, ஶ்ரீமஹாலக்ஷ்மீர்தே³வதா,

ஶ்ரீஜக³த³ம்பா³ப்ரீதயே ஸப்தஶதிபாடா²ங்க³த்வேன ஜபே விநியோக³꞉ .

 

ௐ நமஶ்சண்டி³காயை .

 

மார்கண்டே³ய உவாச .

ௐ ஜய த்வம்ʼ தே³வி சாமுண்டே³ ஜய பூ⁴தாபஹாரிணி .

ஜய ஸர்வக³தே தே³வி காலராத்ரி நமோ(அ)ஸ்து தே .. 1..

 

ஜயந்தீ மங்க³லா காலீ ப⁴த்³ரகாலீ கபாலினீ .

து³ர்கா³ ஶிவா க்ஷமா தா⁴த்ரீ ஸ்வாஹா ஸ்வதா⁴ நமோ(அ)ஸ்து தே .. 2..

 

மது⁴கைடப⁴வித்⁴வம்ʼஸி விதா⁴த்ருʼவரதே³ நம꞉ .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 3..

 

மஹிஷாஸுரநிர்நாஶி ப⁴க்தானாம்ʼ ஸுக²தே³ நம꞉ .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 4..

 

தூ⁴ம்ரநேத்ரவதே⁴ தே³வி த⁴ர்மகாமார்த²தா³யினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 5..

 

ரக்தபீ³ஜவதே⁴ தே³வி சண்ட³முண்ட³விநாஶினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 6..

 

நிஶும்ப⁴ஶும்ப⁴நிர்நாஶி த்ரைலோக்யஶுப⁴தே³ நம꞉ .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 7..

 

வந்தி³தாங்க்⁴ரியுகே³ தே³வி ஸர்வஸௌபா⁴க்³யதா³யினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 8..

 

அசிந்த்யரூபசரிதே ஸர்வஶத்ருவிநாஶினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 9..

 

நதேப்⁴ய꞉ ஸர்வதா³ ப⁴க்த்யா சாபர்ணே து³ரிதாபஹே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 10..

 

ஸ்துவத்³ப்⁴யோ ப⁴க்திபூர்வம்ʼ த்வாம்ʼ சண்டி³கே வ்யாதி⁴நாஶினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 11..

 

சண்டி³கே ஸததம்ʼ யுத்³தே⁴ ஜயந்தி பாபநாஶினி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 12..

 

தே³ஹி ஸௌபா⁴க்³யமாரோக்³யம்ʼ தே³ஹி தே³வி பரம்ʼ ஸுக²ம் .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 13..

 

விதே⁴ஹி தே³வி கல்யாணம்ʼ விதே⁴ஹி விபுலாம்ʼ ஶ்ரியம் .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 14..

 

விதே⁴ஹி த்³விஷதாம்ʼ நாஶம்ʼ விதே⁴ஹி ப³லமுச்சகை꞉ .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 15..

 

ஸுராஸுரஶிரோரத்னனிக்⁴ருʼஷ்டசரணே(அ)ம்பி³கே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 16..

 

வித்³யாவந்தம்ʼ யஶஸ்வந்தம்ʼ லக்ஷ்மீவந்தஞ்ச மாம்ʼ குரு .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 17..

 

தே³வி ப்ரசண்ட³தோ³ர்த³ண்ட³தை³த்யத³ர்பநிஷூதி³னி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 18..

 

ப்ரசண்ட³தை³த்யத³ர்பக்⁴னே சண்டி³கே ப்ரணதாய மே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 19..

 

சதுர்பு⁴ஜே சதுர்வக்த்ரஸம்ʼஸ்துதே பரமேஶ்வரி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 20..

 

க்ருʼஷ்ணேன ஸம்ʼஸ்துதே தே³வி ஶஶ்வத்³ப⁴க்த்யா ஸதா³ம்பி³கே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 21..

 

ஹிமாசலஸுதாநாத²ஸம்ʼஸ்துதே பரமேஶ்வரி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 22..

 

இந்த்³ராணீபதிஸத்³பா⁴வபூஜிதே பரமேஶ்வரி .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 23..

 

தே³வி ப⁴க்தஜனோத்³தா³மத³த்தானந்தோ³த³யே(அ)ம்பி³கே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 24..

 

பா⁴ர்யாம்ʼ மனோரமாம்ʼ தே³ஹி மனோவ்ருʼத்தானுஸாரிணீம் .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 25..

 

தாரிணி து³ர்க³ஸம்ʼஸாரஸாக³ரஸ்யாசலோத்³ப⁴வே .

ரூபம்ʼ தே³ஹி ஜயம்ʼ தே³ஹி யஶோ தே³ஹி த்³விஷோ ஜஹி .. 26..

 

இத³ம்ʼ ஸ்தோத்ரம்ʼ படி²த்வா து மஹாஸ்தோத்ரம்ʼ படே²ன்னர꞉ .

ஸப்தஶதீம்ʼ ஸமாராத்⁴ய வரமாப்னோதி து³ர்லப⁴ம் .. 27..

 

.. இதி ஶ்ரீமார்கண்டே³யபுராணே அர்க³லாஸ்தோத்ரம்ʼ ஸமாப்தம் ..

 

॥ अर्गलास्तोत्रम् ॥

 

ॐ अस्य श्रीअर्गलास्तोत्रमन्त्रस्य विष्णुरृषिः,

अनुष्टुप् छन्दः, श्रीमहालक्ष्मीर्देवता,

श्रीजगदम्बाप्रीतये सप्तशतिपाठाङ्गत्वेन जपे विनियोगः ।

 

ॐ नमश्चण्डिकायै ।

 

मार्कण्डेय उवाच ।

ॐ जय त्वं देवि चामुण्डे जय भूतापहारिणि ।

जय सर्वगते देवि कालरात्रि नमोऽस्तु ते ॥ १॥

 

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी ।

दुर्गा शिवा क्षमा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते ॥ २॥

 

मधुकैटभविध्वंसि विधातृवरदे नमः ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ३॥

 

महिषासुरनिर्नाशि भक्तानां सुखदे नमः ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ४॥

 

धूम्रनेत्रवधे देवि धर्मकामार्थदायिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ५॥

 

रक्तबीजवधे देवि चण्डमुण्डविनाशिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ६॥

 

निशुम्भशुम्भनिर्नाशि त्रैलोक्यशुभदे नमः ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ७॥

 

वन्दिताङ्घ्रियुगे देवि सर्वसौभाग्यदायिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ८॥

 

अचिन्त्यरूपचरिते सर्वशत्रुविनाशिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ९॥

 

नतेभ्यः सर्वदा भक्त्या चापर्णे दुरितापहे ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १०॥

 

स्तुवद्भ्यो भक्तिपूर्वं त्वां चण्डिके व्याधिनाशिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ ११॥

 

चण्डिके सततं युद्धे जयन्ति पापनाशिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १२॥

 

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि देवि परं सुखम् ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १३॥

 

विधेहि देवि कल्याणं विधेहि विपुलां श्रियम् ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १४॥

 

विधेहि द्विषतां नाशं विधेहि बलमुच्चकैः ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १५॥

 

सुरासुरशिरोरत्ननिघृष्टचरणेऽम्बिके ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १६॥

 

विद्यावन्तं यशस्वन्तं लक्ष्मीवन्तञ्च मां कुरु ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १७॥

 

देवि प्रचण्डदोर्दण्डदैत्यदर्पनिषूदिनि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १८॥

 

प्रचण्डदैत्यदर्पघ्ने चण्डिके प्रणताय मे ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ १९॥

 

चतुर्भुजे चतुर्वक्त्रसंस्तुते परमेश्वरि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २०॥

 

कृष्णेन संस्तुते देवि शश्वद्भक्त्या सदाम्बिके ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २१॥

 

हिमाचलसुतानाथसंस्तुते परमेश्वरि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २२॥

 

इन्द्राणीपतिसद्भावपूजिते परमेश्वरि ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २३॥

 

देवि भक्तजनोद्दामदत्तानन्दोदयेऽम्बिके ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २४॥

 

भार्यां मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम् ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २५॥

 

तारिणि दुर्गसंसारसागरस्याचलोद्भवे ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥ २६॥

 

इदं स्तोत्रं पठित्वा तु महास्तोत्रं पठेन्नरः ।

सप्तशतीं समाराध्य वरमाप्नोति दुर्लभम् ॥ २७॥

 

॥ इति श्रीमार्कण्डेयपुराणे अर्गलास्तोत्रं समाप्तम् ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay up to date!