Shyamala Sathsanga Mandali

From the blog

Ratri Suktam

ராத்ரிஸூக்த

ராத்ரீதி ஸூக்தஸ்ய குஶிக꞉ ருʼஷி꞉ ராத்ரிர்தே³வதா, கா³யத்ரீச்ச²ந்த³꞉,

ஶ்ரீஜக³த³ம்வா ப்ரீத்யர்தே² ஸப்தஶதீபாடா²தௌ³ ஜபே விநியோக³꞉ .

ௐ ராத்ரீ வ்யக்²யதா³யதி புருத்ரா தே³வ்யக்ஷபி⁴꞉ .

விஶ்வா அதி⁴ ஶ்ரியோ(அ)தி⁴த .. 1..

 

ஓர்வப்ரா அமர்த்யா நிவதோ தே³வ்யுத்³வத꞉ .

ஜ்யோதிஷா வாத⁴தே தம꞉ .. 2..

 

நிரு ஸ்வஸாரம்ஸ்க்ருʼதோஷஸம்ʼ தே³வ்யாயதீ .

அபேது³ஹாஸதே தம꞉ .. 3..

 

ஸா நோ அத்³ய யஸ்யா வயம்ʼ நிதேயாமன்யவிக்ஷ்மஹி .

வ்ருʼக்ஷேண் வஸதிம்ʼ வய꞉ .. 4..

 

நி க்³ராமாஸோ அவிக்ஷத நிபத்³வந்தோ நிபக்ஷிண꞉ .

நி ஶ்யேனாஸஶ்சித³ர்தி²ன꞉ .. 5..

 

யாவயா வ்ருʼக்யம்ʼ வ்ருʼகம்ʼ யவயஸ்தேனமூர்ம்ம்யே .

அதா² ந꞉ ஸுதரா ப⁴வ .. 6..

 

உப மா பேபிஶத்தம꞉ க்ருʼஷ்ணம்ʼ வ்யக்தமஸ்தி²த .

உஷ ருʼணேவ யாதய .. 7..

 

உப தே கா³ இவாகரம்ʼ வ்ருʼணீஷ்வ து³ஹிதர்த்³தி³வ꞉ .

ராத்ரி ஸ்தோமம்ʼ ந ஜிக்³யுஷே .. 8..

 

रात्रिसूक्त (ऋग्वेद)

 

ऋग्वेद १०-१०-१२७

रात्रीति सूक्तस्य कुशिकः ऋषिः रात्रिर्देवता, गायत्रीच्छन्दः,

श्रीजगदम्वा प्रीत्यर्थे सप्तशतीपाठादौ जपे विनियोगः ।

ॐ रात्री व्यख्यदायति पुरुत्रा देव्यक्षभिः ।

विश्वा अधि श्रियोऽधित ॥ १॥

 

ओर्वप्रा अमर्त्या निवतो देव्युद्वतः ।

ज्योतिषा वाधते तमः ॥ २॥

 

निरु स्वसारम्स्कृतोषसं देव्यायती ।

अपेदुहासते तमः ॥ ३॥

 

सा नो अद्य यस्या वयं नितेयामन्यविक्ष्महि ।

वृक्षेण् वसतिं वयः ॥ ४॥

 

नि ग्रामासो अविक्षत निपद्वन्तो निपक्षिणः ।

नि श्येनासश्चिदर्थिनः ॥ ५॥

 

यावया वृक्यं वृकं यवयस्तेनमूर्म्म्ये ।

अथा नः सुतरा भव ॥ ६॥

 

उप मा पेपिशत्तमः कृष्णं व्यक्तमस्थित ।

उष ऋणेव यातय ॥ ७॥

उप ते गा इवाकरं वृणीष्व दुहितर्द्दिवः ।

रात्रि स्तोमं न जिग्युषे ॥ ८॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay up to date!