Shyamala Sathsanga Mandali

From the blog

Devi Aparadha Kshamapana Stotram

Devi Aparadha Kshamapana Stotram

அத² அபராத⁴க்ஷமாபணஸ்தோத்ரம்

 

ௐ அபராத⁴ஶதம்ʼ க்ருʼத்வா ஜக³த³ம்பே³தி சோச்சரேத் .

யாம்ʼ க³திம்ʼ ஸமவாப்னோதி ந தாம்ʼ ப்³ரஹ்மாத³ய꞉ ஸுரா꞉ .. 1..

 

ஸாபராதோ⁴(அ)ஸ்மி ஶரணம்ʼ ப்ராப்தஸ்த்வாம்ʼ ஜக³த³ம்பி³கே .

இதா³னீமனுகம்ப்யோ(அ)ஹம்ʼ யதே²ச்ச²ஸி ததா² குரு .. 2..

 

அஜ்ஞாநாத்³விஸ்ம்ருʼதேர்ப்⁴ராந்த்யா யந்ந்யூனமதி⁴கம்ʼ க்ருʼதம் .

தத்ஸர்வம்ʼ க்ஷம்யதாம்ʼ தே³வி ப்ரஸீத³ பரமேஶ்வரி .. 3..

 

காமேஶ்வரி ஜக³ன்மாத꞉ ஸச்சிதா³னந்த³விக்³ரஹே .

க்³ருʼஹாணார்சாமிமாம்ʼ ப்ரீத்யா ப்ரஸீத³ பரமேஶ்வரி .. 4..

 

ஸர்வரூபமயீ தே³வீ ஸர்வம்ʼ தே³வீமயம்ʼ ஜக³த் .

அதோ(அ)ஹம்ʼ விஶ்வரூபாம்ʼ த்வாம்ʼ நமாமி பரமேஶ்வரீம் .. 5..

 

யத³க்ஷரம்ʼ பரிப்⁴ரஷ்டம்ʼ மாத்ராஹீனஞ்ச யத்³ப⁴வேத் .

பூர்ணம்ʼ ப⁴வது தத் ஸர்வம்ʼ த்வத்ப்ரஸாதா³ன்மஹேஶ்வரி .. 6..

 

யத³த்ர பாடே² ஜக³த³ம்பி³கே மயா

விஸர்க³பி³ந்த்³வக்ஷரஹீனமீரிதம் .

தத³ஸ்து ஸம்பூர்ணதமம்ʼ ப்ரஸாத³த꞉

ஸங்கல்பஸித்³தி⁴ஶ்ச ஸதை³வ ஜாயதாம் .. 7..

 

யன்மாத்ராபி³ந்து³பி³ந்து³த்³விதயபத³பத³த்³வந்த்³வவர்ணாதி³ஹீனம்ʼ

ப⁴க்த்யாப⁴க்த்யானுபூர்வம்ʼ ப்ரஸப⁴க்ருʼதிவஶாத் வ்யக்தமவ்யக்தமம்ப³ .

மோஹாத³ஜ்ஞானதோ வா படி²தமபடி²தம்ʼ ஸாம்ப்ரதம்ʼ தே ஸ்தவே(அ)ஸ்மின்

தத் ஸர்வம்ʼ ஸாங்க³மாஸ்தாம்ʼ ப⁴க³வதி வரதே³ த்வத்ப்ரஸாதா³த் ப்ரஸீத³ .. 8..

 

ப்ரஸீத³ ப⁴க³வத்யம்ப³ ப்ரஸீத³ ப⁴க்தவத்ஸலே .

ப்ரஸாத³ம்ʼ குரு மே தே³வி து³ர்கே³ தே³வி நமோ(அ)ஸ்து தே .. 9..

 

.. இதி அபராத⁴க்ஷமாபணஸ்தோத்ரம்ʼ ஸமாப்தம் ..

 

॥ अथ अपराधक्षमापणस्तोत्रम् ॥

 

ॐ अपराधशतं कृत्वा जगदम्बेति चोच्चरेत् ।

यां गतिं समवाप्नोति न तां ब्रह्मादयः सुराः ॥ १॥

 

सापराधोऽस्मि शरणं प्राप्तस्त्वां जगदम्बिके ।

इदानीमनुकम्प्योऽहं यथेच्छसि तथा कुरु ॥ २॥

 

अज्ञानाद्विस्मृतेर्भ्रान्त्या यन्न्यूनमधिकं कृतम् ।

तत्सर्वं क्षम्यतां देवि प्रसीद परमेश्वरि ॥ ३॥

 

कामेश्वरि जगन्मातः सच्चिदानन्दविग्रहे ।

गृहाणार्चामिमां प्रीत्या प्रसीद परमेश्वरि ॥ ४॥

 

सर्वरूपमयी देवी सर्वं देवीमयं जगत् ।

अतोऽहं विश्वरूपां त्वां नमामि परमेश्वरीम् ॥ ५॥

 

यदक्षरं परिभ्रष्टं मात्राहीनञ्च यद्भवेत् ।

पूर्णं भवतु तत् सर्वं त्वत्प्रसादान्महेश्वरि ॥ ६॥

 

यदत्र पाठे जगदम्बिके मया

विसर्गबिन्द्वक्षरहीनमीरितम् ।

तदस्तु सम्पूर्णतमं प्रसादतः

सङ्कल्पसिद्धिश्च सदैव जायताम् ॥ ७॥

 

यन्मात्राबिन्दुबिन्दुद्वितयपदपदद्वन्द्ववर्णादिहीनं

भक्त्याभक्त्यानुपूर्वं प्रसभकृतिवशात् व्यक्तमव्यक्तमम्ब ।

मोहादज्ञानतो वा पठितमपठितं साम्प्रतं ते स्तवेऽस्मिन्

तत् सर्वं साङ्गमास्तां भगवति वरदे त्वत्प्रसादात् प्रसीद ॥ ८॥

 

प्रसीद भगवत्यम्ब प्रसीद भक्तवत्सले ।

प्रसादं कुरु मे देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तु ते ॥ ९॥

 

॥ इति अपराधक्षमापणस्तोत्रं समाप्तम् ॥

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay up to date!