Shyamala Sathsanga Mandali

From the blog

Soundarya Lahari Sloka 10 with Meaning and Lyrics

Soundarya Lahari Sloka 10

 

Soundarya Lahari Sloka 10 Meaning

 

Soundarya Lahari Sloka 10 Lyrics

சௌந்தர்யலஹரி ஸ்தோத்ரம் 10

ஸுதா⁴தா⁴ராஸாரைஶ்சரணயுக³லாந்தர்விக³லிதை꞉

ப்ரபஞ்சம்ʼ ஸிஞ்சந்தீ புனரபி ரஸாம்னாயமஹஸ꞉ .

அவாப்ய ஸ்வாம்ʼ பூ⁴மிம்ʼ பு⁴ஜக³னிப⁴மத்⁴யுஷ்டவலயம்ʼ

ஸ்வமாத்மானம்ʼ க்ருʼத்வா ஸ்வபிஷி குலகுண்டே³ குஹரிணி

श्री सौन्दर्यलहरी स्तोत्र 10

सुधाधारासारैश्चरणयुगलान्तर्विगलितैः

प्रपञ्चं सिञ्चन्ती पुनरपि रसाम्नायमहसः ।

अवाप्य स्वां भूमिं भुजगनिभमध्युष्टवलयं

स्वमात्मानं कृत्वा स्वपिषि कुलकुण्डे कुहरिणि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Stay up to date!