मोहान्धकारनिवहं विनिहन्तुमीडे
मूकात्मनामपि महाकवितावदान्यान् ।
श्रीकाञ्चिदेशशिशिरीकृतिजागरूकान्
एकाम्रनाथतरुणीकरुणावलोकान् ॥1॥

मातर्जयन्ति ममताग्रहमोक्षणानि
माहेन्द्रनीलरुचिशिक्षणदक्षिणानि ।
कामाक्षि कल्पितजगत्त्रयरक्षणानि
त्वद्वीक्षणानि वरदानविचक्षणानि ॥2॥

आनङ्गतन्त्रविधिदर्शितकौशलानाम्
आनन्दमन्दपरिघूर्णितमन्थराणाम् ।
तारल्यमम्ब तव ताडितकर्णसीम्नां
कामाक्षि खेलति कटाक्षनिरीक्षणानाम् ॥3॥

மோஹாந்தகாரனிவஹம் வினிஹந்துமீடே
மூகாத்மனாமபி மஹாகவிதாவதாந்யாந் |
ஶ்ரீகாஞ்சிதேஶஶிஶிரீக்ருதிஜாகரூகாந்
ஏகாம்ரனாததருணீகருணாவலோகாந் ||1||

மாதர்ஜயந்தி மமதாக்ரஹமோக்ஷணானி
மாஹேந்த்ரனீலருசிஶிக்ஷணதக்ஷிணானி |
காமாக்ஷி கல்பிதஜகத்த்ரயரக்ஷணானி
த்வத்வீக்ஷணானி வரதானவிசக்ஷணானி ||2||

ஆனங்கதந்த்ரவிதிதர்ஶிதகௌஶலானாம்
ஆனந்தமந்தபரிகூர்ணிதமந்தராணாம் |
தாரல்யமம்ப தவ தாடிதகர்ணஸீம்னாம்
காமாக்ஷி கேலதி கடாக்ஷனிரீக்ஷணானாம் ||3||

कल्लोलितेन करुणारसवेल्लितेन
कल्माषितेन कमनीयमृदुस्मितेन ।
मामञ्चितेन तव किञ्चन कुञ्चितेन
कामाक्षि तेन शिशिरीकुरु वीक्षितेन ॥4॥

साहाय्यकं गतवती मुहुरर्जनस्य
मन्दस्मितस्य परितोषितभीमचेताः ।
कामाक्षि पाण्डवचमूरिव तावकीना
कर्णान्तिकं चलति हन्त कटाक्षलक्ष्मीः ॥5॥

अस्तं क्षणान्नयतु मे परितापसूर्यम्
आनन्दचन्द्रमसमानयतां प्रकाशम् ।
कालान्धकारसुषुमां कलयन्दिगन्ते
कामाक्षि कोमलकटाक्षनिशागमस्ते ॥6॥

கல்லோலிதேன கருணாரஸவேல்லிதேன
கல்மாஷிதேன கமனீயம்ருதுஸ்மிதேன |
மாமஞ்சிதேன தவ கிம்சன குஞ்சிதேன
காமாக்ஷி தேன ஶிஶிரீகுரு வீக்ஷிதேன ||4||

ஸாஹாய்யகம் கதவதீ முஹுரர்ஜனஸ்ய
மந்தஸ்மிதஸ்ய பரிதோஷிதபீமசேதா: |
காமாக்ஷி பாண்டவசமூரிவ தாவகீனா
கர்ணாந்திகம் சலதி ஹந்த கடாக்ஷலக்ஷ்மீ: ||5||

அஸ்தம் க்ஷணாந்னயது மே பரிதாபஸூர்யம்
ஆனந்தசந்த்ரமஸமானயதாம் ப்ரகாஶம் |
காலாந்தகாரஸுஷுமாம் கலயந்திகந்தே
காமாக்ஷி கோமலகடாக்ஷனிஶாகமஸ்தே ||6||

ताटाङ्कमौक्तिकरुचाङ्कुरदन्तकान्तिः
कारुण्यहस्तिपशिखामणिनाधिरूढः ।
उन्मूलयत्वशुभपादपमस्मदीयं
कामाक्षि तावककटाक्षमतङ्गजेतन्द्रः ॥7॥

छायाभरणे जगतां परितापहारी
ताटङ्करत्नमणितल्लजपल्लवश्रीः ।
कारुण्यनाम विकिरन्मकरन्दजालं
कामाक्षि राजति कटाक्षसुरद्रुमस्ते ॥8॥

सूर्याश्रयप्रणयिनी मणिकुण्डलांशु-
लौहित्यकोकनदकाननमाननीया ।
यान्ती तव स्मरहराननकान्तिसिन्धुं
कामाक्षि राजति कटाक्षकलिन्दकन्या ॥9॥

தாடாங்கமௌக்திகருசாங்குரதந்தகாந்தி:
காருண்யஹஸ்திபஶிகாமணினாதிரூட: |
உந்மூலயத்வஶுபபாதபமஸ்மதீயம்
காமாக்ஷி தாவககடாக்ஷமதங்கஜேதந்த்ர: ||7||

சாயாபரணே ஜகதாம் பரிதாபஹாரீ
தாடங்கரத்னமணிதல்லஜபல்லவஶ்ரீ: |
காருண்யனாம விகிரந்மகரந்தஜாலம்
காமாக்ஷி ராஜதி கடாக்ஷஸுரத்ருமஸ்தே ||8||

ஸூர்யாஶ்ரயப்ரணயினீ மணிகுண்டலாம்ஶு-
லௌஹித்யகோகனதகானனமானனீயா |
யாந்தீ தவ ஸ்மரஹரானனகாந்திஸிந்தும்
காமாக்ஷி ராஜதி கடாக்ஷகலிந்தகந்யா ||9||

प्राप्नोति यं सुकृतिनं तव पक्षपातात्
कामाक्षि वीक्षणविलासकलापुरन्ध्री ।
सद्यस्तमेव किल मुक्तिवधूर्वृणीते
तस्मान्नितान्तमनयोरिदमैकमत्यम् ॥10॥

यान्ती सदैव मरुतामनुकूलभावं
भ्रूवल्लिशक्रधनुरुल्लसिता रसार्द्रा ।
कामाक्षि कौतुकतरङ्गितनीलकण्ठा
कादम्बिनीव तव भाति कटाक्षमाला ॥11॥

गङ्गाम्भसि स्मितमये तपनात्मजेव
गङ्गाधरोरसि नवोत्पलमालिकेव ।
वक्त्रप्रभासरसि शैवलमण्डलीव
कामाक्षि राजति कटाक्षरुचिच्छटा ते ॥12॥

ப்ராப்னோதி யம் ஸுக்ருதினம் தவ பக்ஷபாதாத்
காமாக்ஷி வீக்ஷணவிலாஸகலாபுரந்த்ரீ |
ஸத்யஸ்தமேவ கில முக்திவதூர்வ்ருணீதே
தஸ்மாந்னிதாந்தமனயோரிதமைகமத்யம் ||10||

யாந்தீ ஸதைவ மருதாமனுகூலபாவம்
ப்ரூவல்லிஶக்ரதனுருல்லஸிதா ரஸார்த்ரா |
காமாக்ஷி கௌதுகதரங்கிதனீலகண்டா
காதம்பினீவ தவ பாதி கடாக்ஷமாலா ||11||

கங்காம்பஸி ஸ்மிதமயே தபனாத்மஜேவ
கங்காதரோரஸி னவோத்பலமாலிகேவ |
வக்த்ரப்ரபாஸரஸி ஶைவலமண்டலீவ
காமாக்ஷி ராஜதி கடாக்ஷருசிச்சடா தே ||12||

संस्कारतः किमपि कन्दलितान् रसज्ञ-
केदारसीम्नि सुधियामुपभोगयोग्यान् ।
कल्याणसूक्तिलहरीकलमाङ्कुरान्नः
कामाक्षि पक्ष्मलयतु त्वदपाङ्गमेघः ॥13॥

चाञ्चल्यमेव नियतं कलयन्प्रकृत्या
मालिन्यभूः श्रतिपथाक्रमजागरूकः ।
कैवल्यमेव किमु कल्पयते नतानां
कामाक्षि चित्रमपि ते करुणाकटाक्षः ॥14॥

सञ्जीवने जननि चूतशिलीमुखस्य
संमोहने शशिकिशोरकशेखरस्य ।
संस्तम्भने च ममताग्रहचेष्टितस्य
कामाक्षि वीक्षणकला परमौषधं ते ॥15॥

ஸம்ஸ்காரத: கிமபி கந்தலிதாந் ரஸஜ்ஞ-
கேதாரஸீம்னி ஸுதியாமுபபோகயோக்யாந் |
கல்யாணஸூக்திலஹரீகலமாம்குராந்ன:
காமாக்ஷி பக்ஷ்மலயது த்வதபாங்கமேக: ||13||

சாஞ்சல்யமேவ னியதம் கலயந்ப்ரக்ருத்யா
மாலிந்யபூ: ஶ்ரதிபதாக்ரமஜாகரூக: |
கைவல்யமேவ கிமு கல்பயதே னதானாம்
காமாக்ஷி சித்ரமபி தே கருணாகடாக்ஷ: ||14||

ஸம்ஜீவனே ஜனனி சூதஶிலீமுகஸ்ய
ஸம்மோஹனே ஶஶிகிஶோரகஶேகரஸ்ய |
ஸம்ஸ்தம்பனே ச மமதாக்ரஹசேஷ்டிதஸ்ய
காமாக்ஷி வீக்ஷணகலா பரமௌஷதம் தே ||15||

नीलो‌உपि रागमधिकं जनयन्पुरारेः
लोलो‌உपि भक्तिमधिकां दृढयन्नराणाम् ।
वक्रो‌உपि देवि नमतां समतां वितन्वन्
कामाक्षि नृत्यतु मयि त्वदपाङ्गपातः ॥16॥

कामद्रुहो हृदययन्त्रणजागरूका
कामाक्षि चञ्चलदृगञ्चलमेखला ते ।
आश्चर्यमम्ब भजतां झटिति स्वकीय-
सम्पर्क एव विधुनोति समस्तबन्धान् ॥17॥

कुण्ठीकरोतु विपदं मम कुञ्चितभ्रू-
चापाञ्चितः श्रितविदेहभवानुरागः ।
रक्षोपकारमनिशं जनयञ्जगत्यां
कामाक्षि राम इव ते करुणाकटाक्षः ॥18॥

னீலோ‌உபி ராகமதிகம் ஜனயந்புராரே:
லோலோ‌உபி பக்திமதிகாம் த்ருடயந்னராணாம் |
வக்ரோ‌உபி தேவி னமதாம் ஸமதாம் விதந்வந்
காமாக்ஷி ந்ருத்யது மயி த்வதபாங்கபாத: ||16||

காமத்ருஹோ ஹ்ருதயயந்த்ரணஜாகரூகா
காமாக்ஷி சஞ்சலத்ருகஞ்சலமேகலா தே |
ஆஶ்சர்யமம்ப பஜதாம் ஜடிதி ஸ்வகீய-
ஸம்பர்க ஏவ விதுனோதி ஸமஸ்தபந்தாந் ||17||

குண்டீகரோது விபதம் மம குஞ்சிதப்ரூ-
சாபாஞ்சித: ஶ்ரிதவிதேஹபவானுராக: |
ரக்ஷோபகாரமனிஶம் ஜனயஞ்ஜகத்யாம்
காமாக்ஷி ராம இவ தே கருணாகடாக்ஷ: ||18||

श्रीकामकोटि शिवलोचनशोषितस्य
शृङ्गारबीजविभवस्य पुनःप्ररोहे ।
प्रेमाम्भसार्द्रमचिरात्प्रचुरेण शङ्के
केदारमम्ब तव केवलदृष्टिपातम् ॥19॥

माहात्म्यशेवधिरसौ तव दुर्विलङ्घ्य-
संसारविन्ध्यगिरिकुण्ठनकेलिचुञ्चुः ।
धैर्याम्बुधिं पशुपतेश्चुलकीकरोति
कामाक्षि वीक्षणविजृम्भणकुम्भजन्मा ॥20॥

पीयूषवर्षवशिशिरा स्फुटदुत्पलश्री-
मैत्री निसर्गमधुरा कृततारकाप्तिः ।
कामाक्षि संश्रितवती वपुरष्टमूर्तेः
ज्योत्स्नायते भगवति त्वदपाङ्गमाला ॥21॥

ஶ்ரீகாமகோடி ஶிவலோசனஶோஷிதஸ்ய
ஶ்ருங்காரபீஜவிபவஸ்ய புன:ப்ரரோஹே |
ப்ரேமாம்பஸார்த்ரமசிராத்ப்ரசுரேண ஶங்கே
கேதாரமம்ப தவ கேவலத்ருஷ்டிபாதம் ||19||

மாஹாத்ம்யஶேவதிரஸௌ தவ துர்விலங்க்ய-
ஸம்ஸாரவிந்த்யகிரிகுண்டனகேலிசுஞ்சு: |
தைர்யாம்புதிம் பஶுபதேஶ்சுலகீகரோதி
காமாக்ஷி வீக்ஷணவிஜ்ரும்பணகும்பஜந்மா ||20||

பீயூஷவர்ஷவஶிஶிரா ஸ்புடதுத்பலஶ்ரீ-
மைத்ரீ னிஸர்கமதுரா க்ருததாரகாப்தி: |
காமாக்ஷி ஸம்ஶ்ரிதவதீ வபுரஷ்டமூர்தே:
ஜ்யோத்ஸ்னாயதே பகவதி த்வதபாங்கமாலா ||21||

अम्ब स्मरप्रतिभटस्य वपुर्मनोज्ञम्
अम्भोजकाननमिवाञ्चितकण्टकाभम् ।
भृङ्गीव चुम्बति सदैव सपक्षपाता
कामाक्षि कोमलरुचिस्त्वदपाङ्गमाला ॥22॥

केशप्रभापटलनीलवितानजाले
कामाक्षि कुण्डलमणिच्छविदीपशोभे ।
शङ्के कटाक्षरुचिरङ्गतले कृपाख्या
शैलूषिका नटति शङ्करवल्लभे ते ॥23॥

अत्यन्तशीतलमतन्द्रयतु क्षणार्धम्
अस्तोकविभ्रममनङ्गविलासकन्दम् ।
अल्पस्मितादृतमपारकृपाप्रवाहम्
अक्षिप्ररोहमचिरान्मयि कामकोटि ॥24॥

அம்ப ஸ்மரப்ரதிபடஸ்ய வபுர்மனோஜ்ஞம்
அம்போஜகானனமிவாஞ்சிதகண்டகாபம் |
ப்ருங்கீவ சும்பதி ஸதைவ ஸபக்ஷபாதா
காமாக்ஷி கோமலருசிஸ்த்வதபாங்கமாலா ||22||

கேஶப்ரபாபடலனீலவிதானஜாலே
காமாக்ஷி குண்டலமணிச்சவிதீபஶோபே |
ஶங்கே கடாக்ஷருசிரங்கதலே க்ருபாக்யா
ஶைலூஷிகா னடதி ஶம்கரவல்லபே தே ||23||

அத்யந்தஶீதலமதந்த்ரயது க்ஷணார்தம்
அஸ்தோகவிப்ரமமனங்கவிலாஸகந்தம் |
அல்பஸ்மிதாத்ருதமபாரக்ருபாப்ரவாஹம்
அக்ஷிப்ரரோஹமசிராந்மயி காமகோடி ||24||

मन्दाक्षरागतरलीकृतिपारतन्त्र्यात्
कामाक्षि मन्थरतरां त्वदपाङ्गडोलाम् ।
आरुह्य मन्दमतिकौतुकशालि चक्षुः
आनन्दमेति मुहुरर्धशशाङ्कमौलेः ॥25॥

त्रैयम्बकं त्रिपुरसुन्दरि हर्म्यभूमि-
रङ्गं विहारसरसी करुणाप्रवाहः ।
दासाश्च वासवमुखाः परिपालनीयं
कामाक्षि विश्वमपि वीक्षणभूभृतस्ते ॥26॥

वागीश्वरी सहचरी नियमेन लक्ष्मीः
भ्रूवल्लरीवशकरी भुवनानि गेहम् ।
रूपं त्रिलोकनयनामृतमम्ब तेषां
कामाक्षि येषु तव वीक्षणपारतन्त्री ॥27॥

மந்தாக்ஷராகதரலீக்ருதிபாரதந்த்ர்யாத்
காமாக்ஷி மந்தரதராம் த்வதபாங்கடோலாம் |
ஆருஹ்ய மந்தமதிகௌதுகஶாலி சக்ஷு:
ஆனந்தமேதி முஹுரர்தஶஶாங்கமௌலே: ||25||

த்ரையம்பகம் த்ரிபுரஸுந்தரி ஹர்ம்யபூமி-
ரங்கம் விஹாரஸரஸீ கருணாப்ரவாஹ: |
தாஸாஶ்ச வாஸவமுகா: பரிபாலனீயம்
காமாக்ஷி விஶ்வமபி வீக்ஷணபூப்ருதஸ்தே ||26||

வாகீஶ்வரீ ஸஹசரீ னியமேன லக்ஷ்மீ:
ப்ரூவல்லரீவஶகரீ புவனானி கேஹம் |
ரூபம் த்ரிலோகனயனாம்ருதமம்ப தேஷாம்
காமாக்ஷி யேஷு தவ வீக்ஷணபாரதந்த்ரீ ||27||

माहेश्वरं झटिति मानसमीनमम्ब
कामाक्षि धैर्यजलधौ नितरां निमग्नम् ।
जालेन शृङ्खलयति त्वदपाङ्गनाम्ना
विस्तारितेन विषमायुधदाशको‌உसौ ॥28॥

उन्मथ्य बोधकमलाकारमम्ब जाड्य-
स्तम्बेरमं मम मनोविपिने भ्रमन्तम् ।
कुण्ठीकुरुष्व तरसा कुटिलाग्रसीम्ना
कामाक्षि तावककटाक्षमहाङ्कुशेन ॥29॥

उद्वेल्लितस्तबकितैर्ललितैर्विलासैः
उत्थाय देवि तव गाढकटाक्षकुञ्जात् ।
दूरं पलाययतु मोहमृगीकुलं मे
कामाक्षि स्तवरमनुग्रहकेसरीन्द्रः ॥30॥

மாஹேஶ்வரம் ஜடிதி மானஸமீனமம்ப
காமாக்ஷி தைர்யஜலதௌ னிதராம் னிமக்னம் |
ஜாலேன ஶ்ருங்கலயதி த்வதபாங்கனாம்னா
விஸ்தாரிதேன விஷமாயுததாஶகோ‌உஸௌ ||28||

உந்மத்ய போதகமலாகாரமம்ப ஜாட்ய-
ஸ்தம்பேரமம் மம மனோவிபினே ப்ரமந்தம் |
குண்டீகுருஷ்வ தரஸா குடிலாக்ரஸீம்னா
காமாக்ஷி தாவககடாக்ஷமஹாங்குஶேன ||29||

உத்வேல்லிதஸ்தபகிதைர்லலிதைர்விலாஸை:
உத்தாய தேவி தவ காடகடாக்ஷகுஞ்ஜாத் |
தூரம் பலாயயது மோஹம்ருகீகுலம் மே
காமாக்ஷி ஸ்தவரமனுக்ரஹகேஸரீந்த்ர: ||30||

स्नेहादृतां विदलितोत्पलकन्तिचोरां
जेतारमेव जगदीश्वरि जेतुकामः ।
मानोद्धतो मकरकेतुरसौ धुनीते
कामाक्षि तावककटाक्षकृपाणवल्लीम् ॥31॥

श्रौतीं व्रजन्नपि सदा सरणिं मुनीनां
कामाक्षि सन्ततमपि स्मृतिमार्गगामी ।
कौटिल्यमम्ब कथमस्थिरतां च धत्ते
चौर्यं च पङ्कजरुचां त्वदपाङ्गपातः ॥32॥

नित्यं श्रेतुः परिचितौ यतमानमेव
नीलोत्पलं निजसमीपनिवासलोलम् ।
प्रीत्यैव पाठयति वीक्षणदेशिकेन्द्रः
कामाक्षी किन्तु तव कालिमसम्प्रदायम् ॥33॥

ஸ்னேஹாத்ருதாம் விதலிதோத்பலகந்திசோராம்
ஜேதாரமேவ ஜகதீஶ்வரி ஜேதுகாம: |
மானோத்ததோ மகரகேதுரஸௌ துனீதே
காமாக்ஷி தாவககடாக்ஷக்ருபாணவல்லீம் ||31||

ஶ்ரௌதீம் வ்ரஜந்னபி ஸதா ஸரணிம் முனீனாம்
காமாக்ஷி ஸந்ததமபி ஸ்ம்ருதிமார்ககாமீ |
கௌடில்யமம்ப கதமஸ்திரதாம் ச தத்தே
சௌர்யம் ச பங்கஜருசாம் த்வதபாங்கபாத: ||32||

னித்யம் ஶ்ரேது: பரிசிதௌ யதமானமேவ
னீலோத்பலம் னிஜஸமீபனிவாஸலோலம் |
ப்ரீத்யைவ பாடயதி வீக்ஷணதேஶிகேந்த்ர:
காமாக்ஷீ கிந்து தவ காலிமஸம்ப்ரதாயம் ||33||

भ्रान्त्वा मुहुः स्तबकितस्मितफेनराशौ
कामाक्षि वक्त्ररुचिसञ्चयवारिराशौ ।
आनन्दति त्रिपुरमर्दननेत्रलक्ष्मीः
आलम्ब्य देवि तव मन्दमपाङ्गसेतुम् ॥34॥

श्यामा तव त्रिपुरसुन्दरि लोचनश्रीः
कामाक्षि कन्दलितमेदुरतारकान्तिः ।
ज्योत्स्नावती स्मितरुचापि कथं तनोति
स्पर्धामहो कुवलयैश्च तथा चकोरैः ॥35॥

कालाञ्जनं च तव देवि निरीक्षणं च
कामाक्षि साम्यसरणिं समुपैति कान्त्या ।
निश्शेषनेत्रसुलभं जगतीषु पूर्व-
मन्यत्त्रिनेत्रसुलभं तुहिनाद्रिकन्ये ॥36॥

ப்ராந்த்வா முஹு: ஸ்தபகிதஸ்மிதபேனராஶௌ
காமாக்ஷி வக்த்ரருசிஸம்சயவாரிராஶௌ |
ஆனந்ததி த்ரிபுரமர்தனனேத்ரலக்ஷ்மீ:
ஆலம்ப்ய தேவி தவ மந்தமபாங்கஸேதும் ||34||

ஶ்யாமா தவ த்ரிபுரஸுந்தரி லோசனஶ்ரீ:
காமாக்ஷி கந்தலிதமேதுரதாரகாந்தி: |
ஜ்யோத்ஸ்னாவதீ ஸ்மிதருசாபி கதம் தனோதி
ஸ்பர்தாமஹோ குவலயைஶ்ச ததா சகோரை: ||35||

காலாஞ்ஜனம் ச தவ தேவி னிரீக்ஷணம் ச
காமாக்ஷி ஸாம்யஸரணிம் ஸமுபைதி காந்த்யா |
னிஶ்ஶேஷனேத்ரஸுலபம் ஜகதீஷு பூர்வ-
மந்யத்த்ரினேத்ரஸுலபம் துஹினாத்ரிகந்யே ||36||